• fff
पर्यावरण

परियोजना की पर्यावरणीय स्वीकृति

    अक्टूबर, 1980 में जल संसाधन मंत्रालय (तब सिंचाई व ऊर्जा मंत्रालय) ने परियोजना का निर्माण करने के लिए विस्तृत मार्गदर्शी सिद्धान्त बनाए थे, इसमें परियोजनाओं के पर्यावरणीय प्रभावों का मूल्यांकन करने व पर्यावरणीय सुरक्षा उपाय करने की योजना बनाने के लिए पर्यावरण एवं वन मंत्रालय (तब विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग पर्यावरण विभाग, भारत सरकार द्वारा एक विस्तृत जाँच सूची सम्मिलित की गई ।

    पर्यावरण विभाग की आवश्यकताओं के अनुसार परियोजना अधिकारियों ने पर्यावरणीय मुद्दों पर आवश्यक जानकारी के साथ फरवरी से अक्टूबर, 1980 के दौरान एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट प्रस्तुत की ।  पर्यावरण एवं वन मंत्रालय की पर्यावरणीय मूल्यांकन समिति ने 1983 में आयोजित अपनी 12 वीं बैठक में सरदार सरोवर परियोजना पर सैद्धान्तिक स्वीकृति प्रदान की तथा पर्यावरणीय प्रभाव एवं प्रबन्धन से सम्बन्धित नामश: महाराष्ट्र, गुजरात एवं मध्य प्रदे6ा ने पूर्णता के विभिन्न चरणों में अतिरिक्त प्रलेखी प्रमाण  प्रस्तुत करके अलग-अलग समय में उपलब्ध किए।  जिसे समय-समय पर उपलब्ध हुए संशोधनों की जानकारी के अनुसार तैयार कर लिया गया ।  कार्रवाई एवं ऑंकड़ों से सम्बन्धित अध्ययन सरकार में विभिन्न स्तरों पर किए गए तथा पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार ने 24 जून, 1987 को गुजरात में सरदार सरोवर एवं मध्य प्रदेश में इंदिरा सागर परियोजना पर पर्यावरणीय पहलू से अपनी औपचारिक स्वीकृति प्रदान कर दी ।

    पर्यावरण एवं वन मंत्रालय द्वारा परियोजना की औपचारिक स्वीकृति देने से पूर्व नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण के कार्यक्षेत्र को विस्तृत कर दिया गया और इसे पर्यावरण एवं पुनर्वास क्षेत्रों के बढ़े दायित्व सौंप दिए गए ।  परियोजना प्रक्रिया को क्रियान्वित करने के दौरान नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण को सौंपे गए इन दायित्वों को नि6चित शर्तों के साथ पूरा करने के लिए केन्द्र सरकार ने अपनी स्वीकृति प्रदान की ।  पर्यावरण विभाग ने निम्नलिखित विस्तृत मामलों में जानकारी प्राप्त किए जाने का उद्देश्य रखा था ।

  1. पुनर्वास मानक योजना (मास्टर प्लान)
  2. विभिन्न चरणों में आवाह क्षेत्र उपचार कार्यक्रम
  3. क्षतिपूरक वृक्षारोपण योजना
  4. कमाण्ड क्षेत्र विकास
  5. वनस्पतियों एवं प्राणियों का सर्वेक्षण एवं आसपास के क्षत्रों की वहन क्षमता
  6. भूकम्पनीयता एवं रिम स्थायित्व
  7. स्वास्थ्य पहलू

 

    नर्मदा सागर परियोजना (अब इंदिरा सागर परियोजना के नाम से सम्बोधित), मध्य प्रदेश एवं सरदार सरोवर परियोजना, गुजरात को पर्यावरण एवं वन मंत्रालय ने दिनांक 24 जून, 1987 के द्वारा निम्न शर्तों के साथ अनुमोदित करते हुए पर्यावरणीय स्वीकृति प्रदान की हुई है :
1   नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण सुनिश्चित करेगा कि पर्यावरण सम्बन्धी सुरक्षा उपायों को योजनाबद्ध ढंग से तैयार करें और उक्त परियोनाओं के कार्यों की प्रगति के साथ-साथ इन सुरक्षा उपायों को भी क्रियान्वित करें ।
2   प्रस्तावित कार्यक्रम एवं सम्बद्ध विभाग को मूल्यांकन हेतु उपलब्ध कराए।  प्रस्तुत किए विवरण के अनुसार विस्तृत सर्वेक्षणअध्ययनों का भी किया जाना सुनिश्चित करें ।
3   ज़लाशय भरने से पहले काफी पहले पूर्ण किए जाने वाले अपेक्षित कार्य जैसे आवाह क्षेत्र उपचार कार्यक्रम एवं पुनर्वास योजनाएँ बनाने के कार्य।
4   विभिन्न कार्यों की प्रगति (वस्तुस्थिति) के सम्बन्ध में आवधिक रूप से विभाग को जानकारी में रखना ।  

 
 
    सभी अधिकार सुरक्षित मुख पृष्ठ| हमारे बारे में| निविदायें | आपकी राय | अन्य लिंक साईट | रिक्तियां| अस्वीकरण